डेजर्ट फ्लैग-VI युद्धाभ्यास में पहली बार भारतीय वायु सेना

Reading Time: 2 minutes

दिल्ली : अंतरराष्ट्रीय संबंधों को मजबूत करने में दिशा में भारतीय सेना ने एक कदम और बढ़ाया है। डेजर्ट फ्लैग-VI युद्धाभ्यास में पहली बार भारतीय वायु सेना अपना शौर्य दिखाएगी।

डेजर्ट फ्लैग युद्धाभ्यास संयुक्त अरब अमीरात वायु सेना की मेजबानी में आयोजित एक वार्षिक बहुराष्ट्रीय बड़ा युद्ध अभ्यास है। भारतीय वायु सेना, संयुक्त अरब अमीरात, संयुक्त राज्य अमेरिका, फ्रांस, सऊदी अरब, दक्षिण कोरिया और बहरीन की वायु सेनाओं के साथ अभ्यास डेजर्ट फ्लैग-VI में पहली बार भाग ले रही है। यह अभ्यास संयुक्त अरब अमीरात के अल-दाफरा एयरबेस पर दिनांक 03 मार्च 21 से 27 मार्च तक निर्धारित है।

भारतीय वायुसेना छह सुखोई-30 एमकेआई, दो सी-17 और एक आईएल-78 टैंकर विमान के साथ इस युद्घाभ्यास में भाग ले रही है । सी-17 ग्लोबमास्टर भारतीय वायुसेना के दल को लाने ले जाने के लिए सहायता प्रदान करेगा। सुखोई-30 एमकेआई विमान लंबी दूरी की उड़ान भरेगा जो भारत से सीधे अभ्यास क्षेत्र में जाएगा और इस दौरान रास्ते मे आईएल-78 टैंकर विमानों से उसमें ईंधन भरा जाएगा। इस अभ्यास का उद्देश्य प्रतिभागी सैन्य बलों को नियंत्रित वातावरण में हवाई युद्ध अभियान की परिस्थितियां बनाकर प्रशिक्षण देते हुए सामरिक एक्सपोजर प्रदान करना है। भाग लेने वाली सेनाओं को युद्ध की सर्वश्रेष्ठ प्रथाओं का पारस्परिक आदान-प्रदान करने के साथ-साथ अपनी सामरिक क्षमताओं को बढ़ाने का अवसर मिलेगा।

दुनिया भर से विविध लड़ाकू विमानों को शामिल करते हुए बड़े पैमाने पर आयोजित यह अभ्यास भारतीय वायु सेना सहित प्रतिभागी ताकतों को ज्ञान, अनुभव, सामरिक क्षमताओं को बढ़ाने और अंतर संचालनीयता को बढ़ाने काएक अनूठा अवसर प्रदान करेगा। एक गतिशील और वास्तविक युद्ध वातावरण में भाग लेने वाले राष्ट्रों के साथ युद्धाभ्यास और बातचीत भी अंतरराष्ट्रीय संबंधों को मजबूत करने में योगदान देगी।

पिछले दशक में भारतीय वायु सेना ने नियमित रूप से बहुराष्ट्रीय सामरिक युद्ध अभ्यासों की मेज़बानी की है एवं इनमें भाग लिया है, जिनमें दुनिया की सर्वश्रेष्ठ वायु सेनाओं के बीच सहयोग किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

मीराबाई चानू ने 21 साल का इंतजार खत्म किया, रजत जीत वेटलिफ्टिंग में दिलाया दूसरी बार मेडल

मीराबाई चानू ने ओलंपिक खेलों की भारोत्तोलन स्पर्धा में पदक का भारत का 21 साल का इंतजार खत्म किया और 49 किग्रा स्पर्धा में रजत पदक जीतकर टोक्यो ओलंपिक में भारत का खाता भी खोला। चानू ने क्लीन एवं जर्क में 115 किग्रा और स्नैच में 87 किग्रा से कुल 202 किग्रा वजन उठाकर रजत […]

श्रीलंका में बुर्का होगा बैन, कट्टरपंथियों को दो साल हिरासत में रखने का कानून

दो साल पहले ईस्टर के दिन ही चर्चों में हुए थे धमाके श्रीलंका मैं बुर्का बैन करने की तैयारी है। गृहमंत्री सरथ वीरशेखरा ने कहा कि मुस्लिम महिलाएं पहले बुर्का और हिजाब नहीं पहनतीं थीं, लेकिन अब अधिकांशतः इसी वेशभूषा में नज़र आतीं हैं। इससे जाहिर है कि उनमें धार्मिक कट्टरता बढ़ रही है। बता […]

error: Content is protected !!
Designed and Developed by CodesGesture