बाहुबली धनंजय सिंह पर 25 हजार का इनाम, कुर्की की तैयारी

Reading Time: 2 minutes

अजीत सिंह के हत्या की साजिश में दर्ज है पूर्व सांसद पर केेस

लखनऊ : जौनपुर से बहुजन समाज पार्टी से सांसद रहे धनंजय सिंह की मुश्किलें धीरे-धीरे बढ़ती ही जा रही हैं। लखनऊ में आजमगढ़ के पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह की हत्या के मामले में लखनऊ पुलिस ने फरार चल रहे धनंजय सिंह पर 25 हजार रुपया का इनाम घोषित कर दिया है।
उत्तर प्रदेश एसटीएफ की टीमें भी लखनऊ के साथ जौनपुर तथा हैदराबाद में धनंजय सिंह की तलाश में लगी हैं। इसी बीच गुरुवार को लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने धनंजय सिंह पर 25 हजार रुपया का इनाम घोषित कर दिया है। अब बाहुबली धनंजय सिंह की मुश्किलें काफी बढ़ेंगी।

बुधवार की रात लखनऊ में उनके संभावित ठिकानों पर पुलिस टीमों ने दबिश दी। हालांकि पुलिस को एक बार फिर निराश होना पड़ा। पूर्वांचल के बाहुबली और पूर्व सांसद धनंजय सिंह की लखनऊ के चर्चित अजीत सिंह मर्डर केस में गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने अपने सारे घोड़े दौड़ा दिए हैं। पुलिस अविनार्म बड़वाने के साथ-साथ पूर्व सांसद की संपत्तियों की कुर्की कराने की तैयारी में है।
उधर, गृह विभाग ने धनंजय की जमानत निरस्त कर उन पर कानूनी शिकंजा कसने के लिए हाई कोर्ट में नियुक्त सरकारी वकीलों से राय मांगी है। उम्मीद है कि वकीलों की हड़ताल खत्म होने के बाद हाईकोर्ट खुलने पर इसके लिए जरूरी औपचारिक प्रक्रिया शुरू की जा सकती है। हाईकोर्ट से जमानत निरस्त होने की सूरत में धनंजय सिंह की मुश्किलें और बढ़ जाएंगी और गिरफ्तारी के बाद दोबारा जेल भेजे जाने पर उसे आसानी से जमानत भी नहीं मिल सकेगी।
लॉकडाउन के दौरान जौनपुर में कंस्ट्रक्शन कंपनी के मालिक को धमकाकर उससे रंगदारी मांगने के मामले में धनंजय को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। इसके बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बीते वर्ष 27 अगस्त को धनंजय सिंह की अर्जी मंजूर करते हुए सशर्त जमानत दी थी।

लखनऊ में पुलिस एनकाउंटर में मारे गए गिरधारी के बयान के आधार पर धनंजय सिंह को आरोपी बनाया गया। बीती रात लखनऊ समेत कई ठिकानों पर छापेमारी कर दो जगहों पर गिरफ्तारी वारंट की नोटिस भी चस्पा की गई थी। अजीत सिंह को गोली गिरधारी ने ही मारी थी।

बीते वर्ष इलाहाबाद हाईकोर्ट में दाखिल की गई जमानत अर्जी में धनंजय सिंह ने कोर्ट में खुद ही अपनी हिस्ट्रीशीट पेश की थी। धनंजय की तरफ से दाखिल हलफनामे में बताया गया था कि उसके खिलाफ कुल 38 केस दर्ज हैं। 38 मामलों में से 24 में वह बरी हो चुका है। एक मुकदमे में वह डिस्चार्ज हैं। चार मुकदमों में फाइनल रिपोर्ट लग चुकी है। तीन केस सरकार की तरफ से वापस हो चुके हैं, इस तरह अब उसके खिलाफ सिर्फ पांच मामले ही बचे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

तिरंगा यात्रा में जा रहे सांसद संजय सिंह को हिरासत में लेना बयां कर रहा योगी सरकार का डर : महेंद्र प्रताप सिंह

आयोजन स्थल पर पुलिस का भारी पहरा, कई कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी किए गए हाउस अरेस्ट वाराणसी : तिरंगा यात्रा में शामिल होने जा रहे आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद एवं यूपी प्रभारी संजय सिंह को बाबतपुर एयरपोर्ट रोड से गणेशपुर तरना के समीप पुलिस द्वारा रोक लिया गया है। प्रदेश प्रवक्ता महेंद्र प्रताप सिंह […]

सफाई कर्मचारी अरुण के परिवार को मिले न्यायः संजय सिंह

एक करोड़ रुपये सहायता राशि, परिजन को सरकारी नौकरी और दोषी पुलिसकर्मियों को जेल हो -यूपी में दलितों के साथ बढ़ता जा रहा अत्याचार : संजय सिंह लखनऊ : आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सदस्य और यूपी के प्रभारी संजय सिंह ने बुधवार को योगी आदित्यनाथ की सरकार पर तमाम तथ्यों के साथ गंभीर आरोप […]

error: Content is protected !!
Designed and Developed by CodesGesture